ऑस्ट्रेलिया में पिछले साल 22 पुरुषों ने दिया बच्चों को जन्म, जानें कैसे

ऑस्ट्रेलिया में पिछले साल 22 पुरुषों ने बच्चों को दिया जन्म
आंकड़ों के मुताबिक 10 साल में ऐसे 228 मामले सामने आए
डिपार्टमेंट ऑफ ह्यूमन सर्विस ने इस संबंध में ऑफिशल आंकड़े किए जारी

नई दिल्ली। हाल में ऑस्ट्रेलिया के डिपार्टमेंट ऑफ ह्यूमन सर्विस ने देश के बर्थ रेट का आंकड़ा जारी किया है। इन आंकड़ों के मुताबिक, पिछले साल 22 पुरुषों ने प्रेग्नेंसी के बाद बच्चों को जन्म दिया है। आंकड़ों में यह भी जानकारी दी गई थी कि बच्चों को जन्म देने वाले सभी ट्रांसजेंडर पुरुष थे। इस सूची में यह भी बताया गया है कि दस वर्षों में करीब 228 पुरुष ऐसे हैं जो बच्चों को जन्म दे चुके हैं। इससे पहले साल 2009 में इसके बारे में आखिरी जानकारी दी गई थी। उस समय ट्रांसजेंडर पुरुषों के इस मामले को अननोन का नाम दिया गया था।

पुरुषों द्वारा ऐसा कदम उठाने को लेकर कई लोग इसके विरोध में भी उतरे। लोगों का कहना था कि ‘सेक्स चेंज से मर्द बनने के बाद अगर पुरुष बच्चे को जन्म देते हैं तो कभी भी मर्द कहलाने लायक नहीं हैं।’ लेकिन ऐसा नहीं है कि ऑस्ट्रेलिया के सभी लोग इस सोच से इत्तेफाक रखते हैं।

मेलबर्न यूनिवर्सिटी की एक प्रोफेसर ऐसे पुरुषों के हक में बात करती हैं। प्रोफेसर ने सलाह दी कि अब समय आ गया है कि समाज जेंडर को लेकर अपनी सोच बदलनी चाहिए। उनका कहना है कि- “जो पुरुष अपने जीवन में ऐसे फैसले लेते हैं उन्हें जन्म देने में कोई दिक्कत नहीं है और न ही वह इसे मर्दानगी पर सवाल मानते हैं।”

Next Post

ब्रिटिश जहाज के मालिक का प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को पत्र- ईरान के कब्जे से 23 क्रू मेंबर्स को छुड़ाने में मदद करें

Sat Aug 10 , 2019
ईरान ने 19 जुलाई को ब्रिटेन के तेल जहाज ‘स्टेना इम्पेरो’ को हार्मुज स्ट्रेट से जब्त किया था जहाज पर 18 भारतीय समेत 23 लोग सवार थे, सभी शिपिंग कंपनी के कर्मचारी हैं लंदन. ब्रिटिश शिप ‘स्टेना इम्पेरो’ के मालिक ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से ईरान के कब्जे से जहाज और उस पर सवार 23 क्रू मेंबर्स छुड़ाने के लिए मदद की गुहार लगाई है। उन्होंने मोदी से कहा कि इस मामले में हस्तक्षेप करें और जल्द क्रू को रिहा करने के लिए बात करें। इस तेल जहाज को ईरान के सैनिकों ने 19 जुलाई को जब्त कर लिया था। […]
error

Jagruk Janta