संयुक्त राष्ट्र में भारत ने पाकिस्तान के आरोपों को खारिज किया, कहा- यहां आपके झूठ को मानने वाला कोई नहीं

  • पाकिस्तान का आरोप- भारत ने पाकिस्तान के कब्जे वाले कश्मीर और गिलगित-बाल्तिस्तान पर अपना दावा करते हुए नया राजनीतिक नक्शा जारी किया
  • सैयद अकबरुद्दीन ने कहा- आज के समय में संयुक्त राष्ट्र अपनी पहचान और वैधता के संकट से गुजर रहा है, काउंसिल में बड़े बदलाव की जरूरत

न्यूयॉर्क. संयुक्त राष्ट्र में भारत के स्थायी प्रतिनिधि सैयद अकबरुद्दीन ने गुरुवार को पाकिस्तान पर निशाना साधा। उन्होंने कहा कि पाकिस्तान को अपनी हरकतों से बाज आना चाहिए। उन्हें भारत के खिलाफ झूठे प्रचार-प्रसार बंद करना चाहिए। यहां कोई आपके झूठ को मानने वाला नहीं है।

पाकिस्तान के प्रतिनिधि मुनीर अकरम ने जम्मू-कश्मीर को लेकर भारत पर कई आरोप लगाए थे। इसके जवाब में अकबरुद्दीन ने खुली चर्चा में कहा- यहां एक देश के प्रतिनिधि झूठ का प्रतीक है और आज उन्होंने फिर से झूठ फैलाया है। हम उनके आरोपों को पूरी तरह खारिज करते हैं। पाकिस्तान से मैं यहीं कहना चाहता हूं कि अब बहुत देर हो चुकी है, उन्हें अपनी हरकतों से बाज आना चाहिए।

‘भारत ने 2019 में 3000 बार संघर्ष विराम का उल्लंघन किया’

अकरम ने कहा था- भारत ने जम्मू-कश्मीर ही नहीं बल्कि पाकिस्तान के कब्जे वाले कश्मीर और गिलगित-बाल्तिस्तान पर भी अपना दावा करते हुए नया राजनीतिक नक्शा जारी किया है। साथ ही भारत ने 2019 में नियंत्रण रेखा पर 3000 बार संघर्ष विराम का उल्लंघन किया।

काउंसिल में प्रामाणिकता और पहचान का संकट बढ़ रहा: अकबरुद्दीन

अकबरुद्दीन ने कहा- सुरक्षा परिषद में प्रामाणिकता, प्रासंगिकता और पहचान का संकट बढ़ रहा है। आतंकवाद के नेटवर्क का वैश्वीकरण हो रहा है, नई तकनीक का शस्त्रीकरण हो रहा है। आतंकवाद के खिलाफ कड़े फैसले लेने में असमर्थता परिषद की कमियों को दिखाती है। आज के समय में संयुक्त राष्ट्र अपनी पहचान और वैधता के संकट से गुजर रहा है। परिषद में बड़े बदलाव की जरूरत है। हमें ऐसी काउंसिल की जरूरत है जो वर्तमान वैश्विक वास्तविकताओं की प्रतिनिधि हो। काउंसिल को 21वीं सदी के उद्देश्यों के अनुसार फिट होने की जरूरत है।

Next Post

आज रात 10:38 बजे शुरू होगा मांद्य चंद्र ग्रहण; चांद के आगे छाएगी धूल जैसी परत, इसका सूतक नहीं रहेगा

Fri Jan 10 , 2020
पिछले 10 साल में 6 बार और 2020 में 4 बार मांद्य चंद्र ग्रहण होंगे 10 जनवरी के ग्रहण में चंद्रमा पर राहु की छाया नहीं पड़ेगी 5 जून, 5 जुलाई और 30 नवंबर को भी मांद्य चंद्र ग्रहण होगा जयपुर। शुक्रवार रात 10:38 बजे मांद्य चंद्र ग्रहण शुरू होगा, इसका मध्य 12:40 बजे और मोक्ष रात में 2:42 बजे होगा। इस ग्रहण का कोई धार्मिक महत्व नहीं है। इस वजह से ग्रहण का सूतक नहीं रहेगा। ग्रहण काल में भी पूजा-पाठ आदि कर्म किए जा सकेंगे। साल 2020 में 4 मांद्य चंद्र ग्रहण होंगे। निर्णय सागर पंचांग के मुताबिक […]

You May Like

Breaking News

error

Jagruk Janta