कांग्रेस में कुशल वक्ताओं को राजस्थान से राज्यसभा भेजने तैयारी, नामों पर मंथन

  • सदन में पार्टी का पक्ष मजबूती रखने वाले लोगों के नामों पर चर्चा , राजस्थान से पवन खेड़ा, गौरववल्लभ पंत, और रणदीप सिंह सुरेजवाला के नाम की चर्चा जोरों पर

जयपुर। प्रदेश में अप्रेल में माह होने जा रहे राज्यसभा चुनाव को लेकर कांग्रेस में संभावित दावेदारों के नामों को लेकर मंथन शुरू हो गया है। कांग्रेस में उच्च स्तर पर चर्चा इस बात की है कि इस वरिष्ठ नेताओं की बजाए सदन में पार्टी का पक्ष मजबूती से रखने वाले नेताओं को राज्यसभा भेजा जाए।

दरअसल भाजपा ने भी सुधांशु त्रिवेदी, जी.वी.एल नरसिम्हा राव और राकेश सिन्हा जैसे कुशल वक्ताओं को राज्यसभा भेजा है। अब कांग्रेस पार्टी इससे सबक लेते हुए अपने कुशल वक्ताओं को राज्यसभा भेजने पर विचार कर रही है। मध्य प्रदेश, राजस्थान और छत्तीसगढ़ से कुछ नए चेहरों को राज्यसभा भेजने पर विचार चल रहा है।

अकेले राजस्थान में राज्यसभा की तीन सीटें खाली हो रही हैं। संख्याबल के लिहाज से 2 सीटें आसानी से कांग्रेस के खाते में जाएंगी। चर्चा है कि रविवार को जयपुर में हुई कांग्रेस कॉर्डिनेशन कमेटी की बैठक में भी कुशल वक्ताओं के नामों पर चर्चा हुई थी।

राज्यसभा में कुशल वक्ताओं की संख्या बढाना चाहती है पार्टी
बताया जाता है कि राज्यसभा में कांग्रेस पार्टी के पास कहने तो आनंद शर्मा, गुलाम नबी आजाद, कपिल सिब्बल, राजबब्बर जैसे वक्ता हैं, लेकिन आलाकमान सदन में और मजबूती से पार्टी का पक्ष रखे और सत्ता पक्ष को घेर सके,इसके लिए सदन में कुशल वक्ताओं की संख्या बढ़ाना चाहती है। ऐसे में पार्टी टीवी डिबेट और पार्टी का पक्ष रखने वाले नेताओं के नामों पर विचार कर रही है।

इन नामों पर विचार
जानकारों की माने तो राजस्थान से जिन नामों पर विचार चल रहा है उनमें गौरव वल्लभ पंत, पवन खेड़ा और रणदीप सिंह सुरेजवाला का नाम प्रमुख है। गौरव वल्लभ पंत वैसे तो छत्तीसगढ़ में रहते हैं, लेकिन मूलतयाः वो राजस्थान से संबंध रखते हैं, टीवी डिबेट में मजबूती से पार्टी का पक्ष रखतेहैं ।

इसके अलावा पार्टी के राष्ट्रीय प्रवक्ता पवन खेड़ा भी मूलतयाः उदयपुर से संबंध रखते हैं। रणदीप सिंह सुरजेवाला हरियाणा से हैं और पार्टी के मीडिया विभाग के प्रमुख हैं। माना जा रहा है इन नेताओं के नामों पर जल्द ही आलाकमान फैसला ले सकते हैं।

Next Post

अयोध्या के राम मंदिर का हर फैसला एकादशी पर

Thu Feb 20 , 2020
अदालत में फैसले की तारीख के ऐलान से लेकर ट्रस्ट का गठन और बैठक इसी तिथि को हुई 19 फरवरी को राम मंदिर निर्माण ट्रस्ट की पहली बैठक के दिन विजया एकादशी थी संतों की राय- 4 अप्रैल को कामदा एकादशी पर मंदिर निर्माण का मुहूर्त किया जाए नई दिल्ली. राम मंदिर निर्माण के लिए बनाए गए ट्रस्ट की पहली बैठक बुधवार को राम जन्मभूमि ट्रस्ट के प्रमुख के पाराशरण के घर पर हुई। यह बैठक विजया एकादशी (19 फरवरी) के दिन हुई। यह भी संयोग ही है कि सुप्रीम कोर्ट ने देव प्रबोधिनी एकादशी (8 नवंबर) को राम मंदिर […]

Breaking News

error

Jagruk Janta