Warning: sprintf(): Too few arguments in /home/jagrukjanta/public_html/wp-content/themes/default-mag/assets/libraries/breadcrumb-trail/inc/breadcrumbs.php on line 254

सूर्य करेंगे रोहिणी नक्षत्र में प्रवेश, इस बार सात दिन ही तपेगी धरती

सूर्य का 24 मई को मध्यरात्रि में 2 बजकर 32 मिनट पर रोहिणी नक्षत्र में प्रवेश होगा। इसके साथ ही नौतपा शुरू हो जाएगा। इस बार रोहिणी के पूरे नौ दिन नहीं तपने के संकेत मिल रहे है। इसका असर आगामी वर्षा ऋतु में दिखाई देगा। ऐसा माना जाता है कि जब सूर्य वृषभ राशि तथा रोहिणी नक्षत्र में संचरण करते हैं, तब वर्षा ऋतु के बनने का सबसे श्रेष्ठ समय होता है। नौतपा नौ दिन यानि 2 जून तक रहेगा, लेकिन इसका असर 15 दिन तक रहता है।

जयपुर। पंचागीय गणना के अनुसार 24 मई को मध्यरात्रि में 2 बजकर 32 मिनट पर सूर्य का रोहिणी नक्षत्र में प्रवेश होगा। इसके साथ ही नौतपा शुरू हो जाएगा। यदि ग्रहगोचर की स्थिति पर गौर करें, तो इस बार रोहिणी के पूरे नौ दिन नहीं तपने के संकेत मिल रहे है। इसका असर आगामी वर्षा ऋतु में दिखाई देगा। ऐसा माना जाता है कि जब सूर्य वृषभ राशि तथा रोहिणी नक्षत्र में संचरण करते हैं, तब वर्षा ऋतु के बनने का सबसे श्रेष्ठ समय होता है। नौतपा नौ दिन यानि 2 जून तक रहेगा, लेकिन इसका असर 15 दिन तक रहता है। लेकिन शुरु के पहले चंद्रमा जिन 9 नक्षत्रों पर रहता है वह दिन नौतपा कहलाते है। इस कारण इन दिनों में गर्मी अधिक रहेगी। मई के अंतिम सप्ताह में सूर्य और पृथ्वी के बीच दूरी कम हो जाती है और इससे धूप और तेज हो जाती है।

शुक्र की राशि में सूर्य का परिभ्रमण तपिश का जन्मदाता

ज्योतिषाचार्य पं. अक्षय शास्त्री के अनुसार इस नक्षत्र में सूर्य के रहते नौ दिन गर्मी अपने चरम पर होती है। दरअसल, रोहिणी नक्षत्र का स्वामी चंद्रमा है, जो सूर्य के प्रभाव में आ जाता है। गुरु व शनि की वक्री चाल के चलते नौतपा खूब तपेगा। शुक्र की राशि में सूर्य का परिभ्रमण तपिश पैदा करता है, लेकिन 30 मई को शुक्र के अपनी ही राशि वृषभ में अस्त होने के कारण गर्मी में कमी आ जाएगी। नौतपा के आखिरी दो दिन तेज हवा-आंधी चलने व बारिश होने के भी योग हैं। शुक्र रस प्रधान ग्रह है, इसलिए वह गर्मी से राहत भी दिलाएगा। सूर्य प्रारंभ के सात दिनों में खूब तपेगा, लेकिन बाद के दो दिन मौसम में परिवर्तन आएगा। देखा जाए तो ग्रह गोचर की स्थिति के अनुसार इस बार अच्छी वर्षा के संकेत नजर आ रहे हैं।

पृथ्वी और सूर्य की दूरी हो जाती है कम

दरअसल रोहिणी नक्षत्र में सूर्य के प्रवेश के दौरान नौतपा आरंभ होता है और इन नौ दिनों में सूर्य की किरणें सीधी धरती पर अपनी तपिश छोड़ती हैं जिस कारण इन नौ दिनों में भीषण गर्मी पड़ती है। रोहिणी नक्षत्र में सूर्य के प्रवेश करते ही धरती और सूर्य के बीच की दूरी काफी कम हो जाती है जिससे धरती पर तपन बढ़ती है। इसलिए नौतपा के नौ दिन काफी गर्म और झुलसा देने वाले होते हैं। रोहिणी नक्षत्र में सूर्य के प्रवेश करते ही धरती और सूर्य के बीच की दूरी काफी कम हो जाती है जिससे धरती पर तपन बढ़ती है। इसलिए नौतपा के नौ दिन काफी गर्म और झुलसा देने वाले होते हैं। वहीं यदि नौतपा के दौरान बारिश हो गई तो इसे रोहिणी का गलना कहा जाता है। ऐसा होने पर मानसून के दौरान अच्छी बारिश की संभावना नहीं होती।

वक्री शनि व गुरु बनाएंगे खंड वृष्टि के योग

ज्योतिषाचार्य शालिनी सालेचा ने बताया कि इस बार सूर्य के रोहिणी संचरण काल में शनि-गुरु ग्रह का वक्रत्व काल रहेगा। सभी ग्रह अपनी-अपनी वक्र दृष्टि का प्रभाव दिखाएंगे। इसका असर अंधड़-बारिश रूप में नजर आएगा। लेकिन उपरोक्त स्थितियों से वर्षा की अनुकूलता बनी रहेगी।

Next Post

अब रेगुलर के साथ ऑनलाइन डिस्टेंस लर्निंग मोड पर ले सकेंगे डिग्री

Sat May 23 , 2020
यूनिवर्सिटी ग्रांट कमीशन ने प्रस्ताव को दी मंजूरी जयपुर. देशभर के विश्वविद्यालयों में पढ़ाई करने वाले विद्यार्थियों के लिए अच्छी खबर है। ये छात्र अब एक साथ दो डिग्री ले सकेंगे। यूनिवर्सिटी ग्रांट कमीशन (यूजीसी) ने एक साथ दो डिग्री के प्रस्ताव को मंजूरी दे दी है। हालांकि, इसके लिए कुछ नियम भी बनाए गए हैं। ये फैसला देशभर के स्टूडेंट्स के लिए लिया है। अब स्टूडेंट्स एक ही समय पर अलग-अलग स्ट्रीम्स के दो अलग-अलग डिग्री कोर्स कर सकते हैं तथा दोनों डिग्रियां पूरी तरह मान्य होंगी। यूजीसी सचिव ने एक समय पर दो डिग्री कोर्सेस के कुछ नियमों […]

Breaking News


Notice: Undefined index: efbl_enable_popup in /home/jagrukjanta/public_html/wp-content/plugins/easy-facebook-likebox/public/easy-facebook-likebox.php on line 455

Notice: Undefined index: efbl_enabe_if_home in /home/jagrukjanta/public_html/wp-content/plugins/easy-facebook-likebox/public/easy-facebook-likebox.php on line 459

Notice: Undefined index: efbl_enabe_if_login in /home/jagrukjanta/public_html/wp-content/plugins/easy-facebook-likebox/public/easy-facebook-likebox.php on line 471

Notice: Undefined index: efbl_enabe_if_login in /home/jagrukjanta/public_html/wp-content/plugins/easy-facebook-likebox/public/easy-facebook-likebox.php on line 479

Notice: Undefined index: efbl_enabe_if_not_login in /home/jagrukjanta/public_html/wp-content/plugins/easy-facebook-likebox/public/easy-facebook-likebox.php on line 488

Notice: Undefined index: efbl_do_not_show_on_mobile in /home/jagrukjanta/public_html/wp-content/plugins/easy-facebook-likebox/public/easy-facebook-likebox.php on line 496

Notice: Undefined index: efbl_enable_popup in /home/jagrukjanta/public_html/wp-content/plugins/easy-facebook-likebox/public/views/public.php on line 25

Notice: Undefined index: efbl_enable_popup in /home/jagrukjanta/public_html/wp-content/plugins/easy-facebook-likebox/public/easy-facebook-likebox.php on line 455

Notice: Undefined index: efbl_enabe_if_home in /home/jagrukjanta/public_html/wp-content/plugins/easy-facebook-likebox/public/easy-facebook-likebox.php on line 459

Notice: Undefined index: efbl_enabe_if_login in /home/jagrukjanta/public_html/wp-content/plugins/easy-facebook-likebox/public/easy-facebook-likebox.php on line 471

Notice: Undefined index: efbl_enabe_if_login in /home/jagrukjanta/public_html/wp-content/plugins/easy-facebook-likebox/public/easy-facebook-likebox.php on line 479

Notice: Undefined index: efbl_enabe_if_not_login in /home/jagrukjanta/public_html/wp-content/plugins/easy-facebook-likebox/public/easy-facebook-likebox.php on line 488

Notice: Undefined index: efbl_do_not_show_on_mobile in /home/jagrukjanta/public_html/wp-content/plugins/easy-facebook-likebox/public/easy-facebook-likebox.php on line 496

Notice: Undefined index: efbl_enable_popup in /home/jagrukjanta/public_html/wp-content/plugins/easy-facebook-likebox/public/views/public.php on line 25

Notice: ob_end_flush(): failed to send buffer of zlib output compression (0) in /home/jagrukjanta/public_html/wp-includes/functions.php on line 4552