हार्दिक पंड्या ने बेटे की पहली फोटो की शेयर, 30 जुलाई को हुआ था जन्म; ट्विटर पर लिखा- भगवान से आशीर्वाद मिला है

10
Advertisements
Advertisements
  • ऑलराउंडर हार्दिक पंड्या ने सर्बिया की एक्ट्रेस नताशा स्टेनकोविच से इसी साल 1 जनवरी को सगाई की थी
  • 30 जुलाई को हार्दिक ने बेटा होने की जानकारी देते हुए एक फोटो शेयर की थी, उसमें बच्चे का चेहरा नहीं दिख रहा था

भारतीय क्रिकेटर हार्दिक पंड्या पिता बन गए हैं। उनकी मंगेतर और सर्बिया की एक्ट्रेस नताशा स्टेनकोविच ने 30 जुलाई को बेटे को जन्म दिया था। अब हार्दिक ने ट्विटर पर बेटे की पहली फोटो शेयर की है। हालांकि, इससे पहले भी उन्होंने एक फोटो शेयर की थी, लेकिन उसमें बच्चे का चेहरा नहीं दिख रहा था।

Advertisements

हार्दिक ने नई फोटो शेयर करते हुए कैप्शन में लिखा- भगवान से आशीर्वाद मिला है। 30 जुलाई को भी एक फोटो शेयर करते हुए हार्दिक ने बेटा होने की जानकारी दी थी। तब उन्होंने लिखा था- हमें बेटे के रूप में आशीर्वाद मिला है।

31 मई को पैरेंट्स बनने की जानकारी दी थी
हार्दिक ने इसी साल 1 जनवरी को नताशा से सगाई की थी। इसकी जानकारी भी उन्होंने सोशल मीडिया के जरिए दी थी। इसके बाद 31 मई 2020 को नताशा और हार्दिक ने सोशल मीडिया पर बताया था कि वे पैरेंट्स बनने वाले हैं।

सगाई के बारे में पिता को भी पता नहीं था
कुछ वक्त पहले हार्दिक ने एक इंटरव्यू में कहा था, ‘‘मेरी सगाई के बारे में माता-पिता को भी नहीं पता था। भाई क्रुणाल को भी दो दिन पहले ही जानकारी दी थी। सबकुछ होने के बावजूद परिवार ने मेरा साथ दिया।’’ सगाई के बाद हार्दिक ने इंस्टाग्राम पर इसके फोटो पोस्ट किए थे। कैप्शन में लिखा था, “मैं तेरा तू मेरी जाने सारा हिंदुस्तान।”

Advertisements
Advertisements

10 thoughts on “हार्दिक पंड्या ने बेटे की पहली फोटो की शेयर, 30 जुलाई को हुआ था जन्म; ट्विटर पर लिखा- भगवान से आशीर्वाद मिला है

  1. Undeniably believe that which you stated. Your
    favorite reason seemed to be on the net the easiest thing to be aware of.
    I say to you, I definitely get annoyed while people think about worries that they just do not know about.
    You managed to hit the nail upon the top and defined
    out the whole thing without having side effect , people could take a signal.
    Will probably be back to get more. Thanks

  2. I was wondering if you ever thought of changing the
    structure of your site? Its very well written; I
    love what youve got to say. But maybe you could a little more in the way of content so people could
    connect with it better. Youve got an awful lot
    of text for only having one or two images. Maybe you
    could space it out better?

  3. Hi, i think that i saw you visited my site thus i came to “return the favor”.I am trying to find things to enhance my website!I suppose its
    ok to use a few of your ideas!!

  4. When I initially commented I clicked the “Notify me when new comments are added” checkbox and now each time a comment is added I get four emails with the
    same comment. Is there any way you can remove people from that service?
    Appreciate it!

  5. Interesting blog! Is your theme custom made or did you download it from somewhere?
    A theme like yours with a few simple tweeks would really make my blog shine.
    Please let me know where you got your design. Kudos

  6. great post, very informative. I wonder why the opposite experts of this sector don’t realize this.
    You should continue your writing. I’m confident, you’ve a great
    readers’ base already!

  7. Hi there! This blog post couldn’t be written much better!
    Looking through this post reminds me of my previous roommate!
    He continually kept preaching about this. I will forward this post to him.
    Pretty sure he’ll have a great read. Thank you
    for sharing!

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Next Post

मित्रता दिवस :- मित्रता किसी भी प्रकार का ऊँच नीच रंग रूप नहीं देखती बस देखती है तो सम व्यवहार-एडवोकेट मुकुंद व्यास

Sun Aug 2 , 2020
बीकानेर@जागरूक जनता ।मित्र यह एक ऐसा रिश्ता है जो खून का रिश्ता ना होते हुए भी सबके लिए बहुत खास होता है। वैसे मित्रता के लिए कोई दिवस नहीं होता यह चिरस्थाई है लेकिन जिस तरह से स्थान विशेष का महत्व होता है उसी तरह दिन विशेष का भी महत्व होता है। इस तरह पुस्तक एक ज्ञान की कुंजी है उसी तरह एक सच्चा मित्र पूरा पुस्तकालय कहलाया जाता है। व्यक्ति को अपने जन्म के बाद से ही रिश्ते प्राप्त हो जाते हैं लेकिन मित्रता एक ऐसी चीज है जो उसके स्वभाव अनुसार उसके व्यवहार अनुसार प्राप्त होती है जिस तरह व्यक्ति होता है उसी तरह के उसे मित्र प्राप्त होते हैं। मित्रता किसी भी प्रकार का उच नीच रंग रूप नहीं देखती बस देखती है तो सम व्यवहार। मित्रता पर रहीम दास जी का एक दोहा है:- “कहि रहीम […]

Other Stories

Jagruk Breaking