डॉक्टर और मरीज के बीच कोरोना बना दीवार!

Advertisements

शिव दयाल मिश्रा
इस
समय सारी दुनिया कोरोना महामारी की चपेट में है और कोरोना के मरीज बढ़ते ही जा रहे हैं। इस बीच दूसरी अन्य बीमारियों से ग्रसित मरीजों के लिए इलाज कराना बहुत बड़ी समस्या के रूप में सामने आ रहा है। ये तो है नहीं, कि बीमारी सिर्फ कोरोना की ही है बाकी सब गायब हो गई। बाकी बीमारियां भी अपनी जगह पर मौजूद है। मगर वे कोरोना के शोर में दब सी गई हैं। इस समय स्थिति ये है कि बीमार को इधर से उधर अस्पतालों के धक्के खाने को मजबूर होना पड़ रहा है। किसी भी बीमारी के कारण अगर कोई व्यक्ति अस्पताल में इलाज कराने के लिए जाता है तो सबसे पहले उसका कोरोना टेस्ट किया जाता है। चाहे वह कितनी भी भयंकर बीमारी से ग्रसित हो, उसका इलाज ही शुरू नहीं होता। अगर जांच में वह कोरोना पोजिटिव आ गया तो फिर उसका बचना ही मुश्किल हो जाता है। कारण कोरोना के चलते उसकी मूल बीमारी का इलाज ही नहीं होता और वह बढ़ती जाती है। एक ही समय में दो बड़ी बीमारियों की चपेट में आ जाने के कारण शरीर की रोग प्रतिरोधात्मक क्षमता कम हो जाती है। परिणाम स्वरूप जीवन की हार। बीमारी चाहे कितनी भी बड़ी क्यों न हो। डॉक्टर का उपेक्षित व्यवहार भी बीमार को मानसिक अवसाद में ले जा रहा है। कोरोना जांच से पूर्व मूल बीमारी का इलाज नहीं होने के कारण मरीज की जान पर बन रही है। कितनी विडम्बना है कि किसी प्राइवेट अस्पताल में जाने के बाद बीमार से एडवांस पैसे जमा कर लिए जाते हैं और फिर उसका कोरोना टेस्ट करवाया जाता है। कोरोना की जांच में रिपोर्ट निगेटिव आ जाती है तो ठीक है, वरना वह मरीज और उसके परिजन बड़ी समस्या से जाते हैं। एक तरफ तो मूल बीमारी का इलाज नहीं होने के कारण बीमारी का बढ़ते जाना और दूसरी तरफ कोरोना के कारण मानसिक परेशानी खड़ी हो जाना। ऐसे में परजिन एवं मरीज कोरोना के कारण मानसिक और आर्थिक दोनों ही तरह से परेशान हो रहे हैं। इन दिनों चारों तरफ कोरोना ही कोरोना सुनाई पड़ रहा है। आम बीमारी के मरीजों के बारे में कोई कहीं चर्चा ही नहीं हो रही है। जैसे आम बीमारी से तो आम आदमी निजात ही पा गया हो। आज वास्तविकता यह है कि मरीज अस्पताल-दर-अस्पताल भटक रहा है मगर उसका इलाज नहीं हो पा रहा है। सरकार को चाहिए कि अस्पतालों को एडवाइजरी जारी की जाए कि बीमार के साथ उपेक्षित व्यवहार को छोड़कर कोरोना की रिपोर्ट आने तक उसकी अन्य बीमारी का इलाज तो किया ही जाना चाहिए।
shivdayalmishra@gmail.com

Advertisements
Advertisements
Advertisements
Advertisements
Advertisements
Advertisements

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Next Post

Jagruk Janta 26 Aug - 1 Sept 2020

Wed Aug 26 , 2020

Jagruk Breaking