गंगा जल में होती है बीमारी वाले बैक्टीरिया को मारने की ताकत, हिमालय से आने पर इसमें आ जाते हैं औषधीय गुण

Advertisements
Advertisements

विष्णु पुराण के मुताबिक भगवान विष्णु के बाएं पैर के अंगूठे से निकली है गंगा

Advertisements

हिंदू धर्म में गंगा नदी को देवी के रूप में बताया है। बहुत से तीर्थ स्थान गंगा नदी के किनारे पर बसे हैं। जिनमें वाराणसी और हरिद्वार खास हैं। गंगा नदी को भारत की पवित्र नदियों में सबसे पवित्र माना जाता है। साथ ही ये मान्यता भी है कि गंगा में नहाने से इंसान के पाप खत्म हो जाते हैं। मरने के बाद लोग गंगा में अस्थि विसर्जित करना जरूरी समझते हैं। माना जाता है ऐसा करने से मोक्ष मिलता है। इसलिए धार्मिक और मांगलिक कामों में गंगाजल का उपयोग खासतौर से किया जाता है। माना जाता है कि गंगाजल से पीने और छिड़कने से पवित्र हो जाते हैं। गंगा जल को पवित्र मानने के पीछे धार्मिक कारणों के साथ साथ कई वैज्ञानिक तथ्य भी हैं।

गंगा का पौराणिक महत्त्व
गंगा नदी के से जुड़ी कई पौराणिक कथाएं हैं। कुछ पुराणों ने गंगा को मंदाकिनी के रूप में स्वर्ग में, गंगा के रूप में धरती पर और भोगवती के रूप में पाताल में बहने वाली नदी बताया है। विष्णु पुराण के मुताबिक गंगा भगवान विष्णु के बाएं पैर के अंगूठे के नाखून से निकली है। कुछ पुराणों में बताया है कि शिवजी ने अपनी जटा से गंगा को सात धाराओं में बदल दिया जिनमें तीन नलिनी, ह्लदिनी एवं पावनी पूर्व की ओर, तीन यानी सीता, चक्षुस एवं सिन्धु पश्चिम की ओर बहती है। वहीं सातवीं धारा भागीरथी बनी। कूर्म पुराण का कहना है कि गंगा नदी सबसे पहले सीता, अलकनंदा, सुचक्ष और भद्रा नाम चार धाराओं में बहती है। अलकनंदा दक्षिण की ओर बहती है और सप्तमुखों में होकर समुद्र में गिरती है।

ये हैं गंगा जल से जुड़े वैज्ञानिक तथ्य

  • लखनऊ के नेशनल बॉटनिकल रिसर्च इंस्टीट्यूट (एनबीआरआई) ने जांच में पाया है कि गंगा जल में बीमारी पैदा करने वाले ई कोलाई बैक्टीरिया को मारने की क्षमता है।
  • वैज्ञानिकों का कहना है कि गंगा का पानी जब हिमालय से आता है तो कई तरह के खनिज और जड़ी -बूटियों का असर इस पर होता है। इससे इसमें औषधीय गुण रहते हैं।
  • गंगा जल में वातावरण से ऑक्सीजन सोखने की अद्भुत क्षमता है। गंगा के पानी में प्रचुर मात्रा में गंधक भी होता है, इसलिए यह लंबे सम य तक खराब नहीं होता।
  • वैज्ञानिक परीक्षणों से पता चला है कि गंगाजल से स्नान करने तथा गंगाजल को पीने से हैजा, प्लेग और मलेरिया आदि रोगों के कीटाणु नष्ट हो जाते हैं।
Advertisements
Advertisements

Next Post

पूर्व मंत्री हार गईं कोरोना से जंग! तीन बार की विधायक ज़किया का हुआ इंतकाल

Tue Sep 22 , 2020
जयपुर। टोंक से तीन बार विधायक और पूर्व मंत्री रहीं ज़किया इनाम नहीं रही, देर रात जयपुर में उनका इंतकाल हो गया है। वे पिछले कई दिनों से बीमार चल रही थी। बताया गया कि उन्हें कोरोना के लक्षण मिलने के बाद कल शाम को ही आरयूएचएस में भर्ती कराया गया था जहां उन्होंने अंतिम सांस ली। उनकी मौत की खबर के बाद टोंक सहित प्रदेश भर के कांग्रेसियों में शोक की लहर दौड़ गई। कांग्रेस पार्टी की ज़किया टोंक क्षेत्र से तीन बार विधायक रहीं। अपने राजनीतिक जीवन में वे चिकित्सा मंत्री, महिला एवं बाल विकास मंत्री भी रहीं। राजनीतिक जीवन ज़किया ने साल 1985 में पहली बार कांग्रेस उम्मीदवार के रुप में भाग्य आजमाया तथा विधायक चुनने के बाद चिकित्सा मंत्री भी बनीं। 1985, 1990, 1998, 2003, 2008 एवं 2013 में वे कांग्रेस उम्मीदवार रहीं। 1998, 2008 में […]

Other Stories