FLASH NEWS
FLASH NEWS
Thursday, December 03, 2020

दिसंबर से 24 घंटे हो सकेगी RTGS सुविधा, इन लोगों को होगा सबसे बड़ा फायदा

Advertisements
Advertisements
  • घरेलू व्यवसायों और संस्थानों को दी जाएगी 24 घंटे आरटीजीएस सुविधा
  • एमपीसी की बैठक के बाद आरबीआई के गवर्नर ने किया बड़ा ऐलान

नई दिल्ली@जागरूक जनता। रिजर्व बैंक ऑफ इंडिया के गवर्नर की ओर से बड़ा ऐलान किया गया है। यह ऐलान है आरटीजीएस को लेकर। अब दिसंबर महीने से आरटीजीएस सर्विस को 24 घंटे तक कर दिया गया है। अब 24 घंटे में कभी रुपयों का लेन देन आरटीजीएस के जरिए किया जा सकता है। यह सुविधा उन लोगों को मिलेगी जो घरेलू स्तर पर कारोबार या व्यवसाय करते हैं। आइए आपको भी बताते हैं कि आखिर उन्होंने इस बारे में क्या कहा…

Advertisements
Advertisements

आरटीजीएस सर्विस 24 घंटे रहेगी जारी
रिजर्व बैंक ऑफ इंडिया के गवर्नर शक्तिकांत दास ने आरबीआई एमपीसी की बैठक के बाद घरेलू व्यवसायों और संस्थानों को बड़ी राहत दी है। उन्होंने कहा कि घरेलू व्यवसाय और संस्थान वास्तविक समय में तेज और निर्बाध भुगतान की सुविधा के लिए, दिसंबर 2020 से आरटीजीएस ( रियल-टाइम ग्रॉस सेटलमेंट ) प्रणाली चौबीस घंटे उपलब्ध रहेगी। अब कोरोना काल में घरेलू व्यवसाय या संस्थानों को काफी फायदा होगा। इससे कोई भी जरुरत के अनुसार किसी भी बैंक अकाउंट से किसी दूसरे बैंक अकाउंट में रुपए ट्रांसफर या मंगा सकता है। अब लोगों को रुपए के लिए ज्यादा समय बर्बाद करने की जरुरत नहीं होगी।

पहले यह थी टाइमिंग
इससे पहले आरटीजीएस के थ्रू ट्रांजेक्शन करने की टाइम लिमिट सुबह 7 बजे से लेकर शाम 6 बजे तक थी। जिसे अगस्त 2019 में बढ़ाया गया था। तब से इसी टाइमिंग को फॉलो किया जा रहा था। अब कोरोना वायरस के कारण आम लोगों से लेकर व्यवसायों तक को आर्थिक परेशानियों का सामना करना पड़ रहा है। खासकर व्यवसायों और संस्थानों को लाखों और करोड़ों रुपयों की रकम ट्रांसफर करनी होती है। ऐसे कोविड के माहौल को देखते हुए आरबीआई की ओर से इसे 24 घंटे तक जारी रखने का फैसला किया है।

2 लाख या उससे ज्यादा की रकम होती है ट्रांसफर
अगर बात आरटीजीएस से रकम ट्रांसफर की बात करें तो इसके तहत मोटी रकम ट्रांसफर की जाती है। इस सर्विस के थ्रू मिनिमम रुपए ट्रांसफर करने की लिमिट 2 लाख रुपए है। जबकि मैक्सीमम लिमिट की कोई सीमा नहीं है। यानी कोई भी 2 लाख या उससे ज्यादा की रकम आरटीजीएस के माध्यम से किसी भी बैंक के अकाउंट में ट्रांसफर करा सकता है।

एनईएफटी से कितना है अलग
इसका कंपैरिजन हम एनईएफटी से करें तो अंतर थोड़ा, लेकिन बड़ा है। वैसे आरटीजीएस और एनईएफटी का काम एक ही है इलेट्रोनिक तरीके से रुपयों को ट्रांसफर करना। लेकिन सबसे बड़ा फर्क यह है कि एनईएफटी में एक रुपए से जितना भी रुपया आप ट्रांसफर करना चाहो कर सकते हैं, लेेकिन इसके थ्रू रुपए ट्रांसफर होने में थोड़ा टाइत लगता है। जबकि आरटीजीएस में मिनिमम लिमिट 2 लाख रुपए है, लेकिन ट्रांसफर टाइम एनईएफटी के मुकाबले काफी बेहतर है।

Advertisements
Advertisements
Advertisements