Advertisements

..

Advertisements
Advertisements

बीकानेर@जागरूक जनता । राजस्थान के राजकीय एवं निजी महाविद्यालयों में पढ रहे लगभग 12 लाख विद्यार्थियों के लिये अच्छी खबर यह है कि उनके लिये क्षमता विकास, रोजगारपरक अतिरिक्त कौशल एवं ज्ञान संवर्द्धन के लिये काॅलेज शिक्षा विभाग राजस्थान ने भारतीय सूचना प्रौद्योगिकी संस्थान (ट्रिपल  आईटी) कोटा के साथ एक एम.ओ.यू. हस्ताक्षरित किया है। ट्रिपल आईटी द्वारा राजस्थान के इन विद्यार्थियों के लिये मूक कोर्स डिजाइन करवा रहा है, जो कि भाषात्मक दृष्टि से यहां के विद्यार्थियों के लिये सरल एवं सहज होंगे। प्रत्येक कोर्स लगभग 6-8 सप्ताह एवं 30-36 माॅड्यूल्स का होगा। सभी विद्यार्थियों के लिये ये कोर्स पूर्णतः निःशुल्क होंगे।

इसी कड़ी में काॅलज शिक्षा विभाग के आयुक्त संदेश नायक एवं ट्रिपल आईटी कोटा के निदेशक प्रो. उदय आर. यारागट्टी ने साथ मिलकर विद्यार्थी हित में इन कोर्सेस के लिये एम.ओ.यू. किया है। आयुक्त नायक ने बताया कि कोरोना महामारी के कारण अभी महाविद्यालयों में आकर पढने की व्यवस्था आरम्भ नहीं हुई है ऐसे में विद्यार्थी विभाग द्वारा उपलब्ध करवाये जा रहे ई-कन्टैन्ट्स के माध्यम से तो पढ ही रहे हैं, परन्तु उनके समय का सदुपयोग उन्हें अतिरिक्त दक्षता अर्जित करने के लिये उपयुक्त कोर्स उपलब्ध करवाकर भी करवाया जा सकता है। इससे उन्हें एक साथ डिग्री और कई सर्टीफिकेट्स मिल सकेगे। उन्होंने बताया कि राजकीय महाविद्यालयों के साथ-साथ निजी महाविद्यालयों में पढ रहे विद्यार्थियों के लिये इस प्रकार की पहली योजना विभाग शुरु करने जा रहा है, इससे सभी महाविद्यालयों में पढ रहे विद्यार्थी लाभ ले सकेगे। ये कोर्स इसी सत्र से विद्यार्थियों के लिये उपलब्ध हो जायेंगे।

उत्कृष्टता के साथ महाविद्यालय संसाधन सहायता समिति के बीकानेर जिले के प्रभारी डूंगर काॅलेज के प्राचार्य डाॅ. शिशिर शर्मा ने बताया कि बीकानेर जिले के  समस्त  राजकीय एवं निजी महाविद्यालय के विद्यार्थियों के लिये कौशल क्षमता विकास हेतु कोर्स अथवा प्रशिक्षण आयोजित करवाना काॅलेज शिक्षा विभाग की प्राथमिकता है। इसके लिये विभाग विभिन्न संस्थाओं के साथ मिलकर कौशल दक्षता, क्षमता विकास एवं ज्ञान संवर्द्धन आधारित कोर्स-प्रशिक्षण करवाने के लिये कार्य कर रहा है। इन कोर्सेस को विद्यार्थियों द्वारा उनकी सुविधा के अनुसार समय में आॅनलाइन लिया जा सकेगा। कोर्स समाप्ति पर इनका मूल्यांकन एवं प्रमाण-पत्र आदि सभी कार्य आॅनलाइन ही रहेंगे।

इन कोर्सेेस के माध्यम से विद्यार्थियों में अतिरिक्त दक्षता विकसित होगी और उन्हें डिग्री कोर्स के साथ साथ अतिरिक्त योग्यता प्रमाण-पत्र लेने का अवसर मिलेगा। ये कोर्स समझने की दृष्टि से प्रमुखतः हिन्दी भाषा में हांेगे जिनमें तकनीकी शब्दावली अंग्रेजी भाषा में भी होगी। इस एम.ओ.यू. के अन्तर्गत उपलब्ध करवाये जाने वाले  कोर्सेस में प्रारम्भिक चरण में आरम्भिक कम्प्यूटर, एडवांस कम्प्यूटर, मशीन लर्निंग, साइबर सिक्योरिटी, एनीमेशन एवं ग्राफिक्स, डाटा एन्ट्री, स्पोकन इंग्लिश एंड कम्यूनिकेशन स्किल्स जैसे कोर्स चयनित किये गये हैं।

Advertisements
Advertisements