धर्म नगरी बीकानेर में ठिठुरती ठंड में मटके के ठंडे पानी से दयागिरी महाराज की जलधारा तपस्या हुई आरंभ, देखे वीडियो

Advertisements
Advertisements

Advertisements

बीकानेर@जागरूक जनता । हिंदू धर्म का सनातन धर्म अपने आप मे चमत्कारीक व अनोखा है, आपने धर्म ग्रन्थों में पढ़ा या सुना होगा कि ऋषि मुनि सर्दी,गर्मी, तूफान आदि में कठिन विकट परिस्थितियों में अपने आराध्य देव की आराधना में लीन रहते है । लेकिन ऐसा दृश्य जब कलियुग में दिखाई जान पड़े तो अपने आप मे अनोखा अविश्वसनीय हो जाता है । लेकिन सच्चाई तो अटल सत्य होती है, एक ऐसी ही सच्चाई की तस्वीर धर्म नगरी बीकानेर से देखने को मिल रही है जिसमे बीकानेर के नजदीकी गांव गैरसर के श्री गुसाईं कृपा धाम आश्रम के पीठाधीश्वर दयागिरी महाराज द्वारा हर साल की भांति इस बार भी कार्तिक पूर्णिमा के बाद 1 दिसम्बर से 21 दिनों तक जलधारा तपस्या शुरू की गई है,आश्रम से जुड़े भक्त प्रहलाद जोशी ने बताया कि दयागिरी महाराज ने मंगलवार 1 दिसम्बर प्रातःकाल 4:15 बजे से जलधारा तपस्या शुरू की है, जो कि 21 दिसंबर तक जारी रहेगी । जोशी ने बताया कि आश्रम से जुड़े भक्तगण रात्रि में पानी की मटकियां भरकर रखते हैं और सुबह महाराज कि मौन जलधारा तपस्या शुरू होती है ।

बता दे, आप और हम जब इस रात की भरी मटकी से पानी की दो घूंट अपने गले पर नही उतार पाते, वैसे समय मे संत स्वरूप दयागिरी महाराज द्वारा इस ठंडे पानी के द्वारा अपने शरीर पर निरंतर जलधारा की तपस्या करते है । जो कि सनातन धर्म की जीती जागती तस्वीरे बयां करती है । जय हो सनातन धर्म…!!

Advertisements
Advertisements

Next Post

राजस्थान के जननेता स्व: मानिकचंद सुराणा की स्मृति में सर्वदलीय श्रद्धांजलि सभा 3 दिसम्बर को

Wed Dec 2 , 2020
बीकानेर@जागरूक जनता । राजस्थान के दिग्गज जननेता और प्रदेश सरकार में पूर्व वित मंत्री रहे स्व: मानिकचंद सुराणा की स्मृति में सर्वदलीय श्रद्धांजलि सभा का आयोजन किया जाएगा । 3 दिसम्बर को यह सर्वदलीय श्रद्धांजलि सभा बिशनोई धर्मशाला में दोपहर 2 बजे से होगी । दिवगंत सुराणा के प्रशंसकों से अनुरोध की 3 दिसम्बर को बिशनोई धर्मशाला पहुंचकर श्रद्धा सुमन अर्पित करें ।

Other Stories

Jagruk Breaking