बीकानेर में हवाई सेवाओं के विस्तार से ही विकास को लगेंगे पंख- पच्चिसिया

Advertisements
Advertisements

Advertisements

बीकानेर@जागरूक जनता । जिला उद्योग केंद्र महाप्रबंधक मंजू नैन गोदारा, बीकानेर जिला उद्योग संघ के अध्यक्ष द्वारकाप्रसाद पचीसिया एवं शिवरतन पुरोहित ने निदेशक नाल एयरपोर्ट योगेश भोजक से हवाई सेवाओं में विस्तार हेतु चर्चा की | अध्यक्ष द्वारकाप्रसाद पचीसिया ने बताया कि बीकानेर से वाया कोलकाता होते हुए गुवहाटी एवं गोआ-मुंबई-व बेंगलुरु के लिए बीकानेर से हवाई सेवा शुरू करवानेके संयुक्त प्रयास किये जाने चाहिए क्योंकि बीकानेर संभाग के औद्योगिक व व्यापारिक क्षेत्र से जुड़े लोगों को अपने व्यापार के सिलसिले में मुंबई, कोलकात्ता व बेंगलुरु आना- जाना रहता है और जिसमें मुंबई, कोलकात्ता व बेंगलुरु के लिए यात्रा में 24 घंटे से 2 दिन का समय लग जाता है | वर्तमान में इन महानगरों की यात्रा के लिए बीकानेर संभाग के नागरिकों को जयपुर व जोधपुर जाना पड़ता है जिससे समय व धन की अनावश्यक हानि होती है | और यदि इन महानगरों के लिए हवाई यात्रा शुरू हो जाती है तो इससे पूरे बीकानेर संभाग के उद्योग व व्यापार में वृद्धि के साथ साथ पर्यटन को भी बढावा मिलेगा और उड्डयन विभाग को भी भारी राजस्व प्राप्त होगा | साथ ही अध्यक्ष द्वारकाप्रसाद पचीसिया ने बताया कि पूर्व में संचालित होने वाली जयपुर हवाई सेवा को भी शीघ्र शुरू करवाया जाए | इस पर निदेशक नाल एयरपोर्ट योगेश भोजक ने बताया कि एयरपोर्ट ऑथोरिटी द्वारा महानगरों हेतु हवाई सेवा शुरू करवाने के लिए निरंतर प्रयास किये जा रहे हैं और साथ ही जल्दी ही जयपुर के लिए हवाई सेवा शुरू होने के संकेत भी दिए |

Advertisements
Advertisements

Next Post

नही रहे मसाला किंग, एमडीएच के मालिक महाशय गुलाटी का दिल का दौरा पड़ने से हुवा निधन

Thu Dec 3 , 2020
। नई दिल्ली । देश मे मसाला किंग के नाम से मशहूर एमडीएच (MDH) के मालिक महाशय धर्मपाल गुलाटी का 98 साल की उम्र में गुरुवार को निधन हो गया । धर्मपाल गुलाटी ने दिल्ली के माता चंदन देवी हॉस्पिटल में 3 दिसंबर को सुबह 5:38 बजे आखिरी सांस ली । सूत्रों से मिली जानकारी में सामने आया है कि वह पहले Corona से भी संक्रमित हुए थे । हालांकि वह उससे ठीक हो चुके थे । गुरुवार सुबह उन्हें दिल का दौरा पड़ा, जिसके बाद उनका निधन हो गया । पहले चलाते थे तांगामहाशय धर्मपाल गुलाटी का जन्म 27 मार्च 1923 में पाकिस्तान के सियालकोट में हुआ था और यहीं से उनके व्यवसाय की नीव पड़ी थी । कंपनी की शुरुआत एक छोटी सी दुकान से हुई, जिसे उनके पिता ने विभाजन से पहले शुरू किया था । 1947 […]

Other Stories

Jagruk Breaking