स्मार्ट सिटी जयपुर को सड़ांध से भी मुक्त करो!

Advertisements
Advertisements

शिव दयाल मिश्रा
प्रारंभ
में जयपुर को धर्मनगरी छोटी काशी के नाम से जाना जाता रहा है। क्योंकि यहां जगह-जगह वास्तु के हिसाब से धार्मिक स्थल बनाए गए थे। बाद में अंग्रेजों के जमाने में किसी अंग्रेज अफसर के जयपुर आगमन पर उसके स्वागत सत्कार में पूरे जयपुर को पिंक (गुलाबी) रंग से रंग दिया गया। तब से इसका नाम पिंकसिटी या गुलाबी नगर हो गया। सरकारी आदेश के अनुसार इसकी चार दीवारी में मकान के बाहर का हिस्सा यानि कि बाजारों से दिखने वाला हिस्सा गुलाबी (गेरुए) रंग से रंगा जाता है। सलीके से हुई बसावट के कारण पिंकसिटी का नाम दुनियाभर में मशहूर है। कोई भी विदेशी नागरिक भारत भ्रमण के लिए आता है तो वह जयपुर देखने जरूर आना चाहता है। जयपुर को देखने बिना वह अपनी भारत यात्रा को अधूरी ही मानता है। यहां के चौड़े-चौड़े बाजार और करीने से बनी हुई दुकानें बरबस ही सैलानियों का ध्यान आकर्षित कर लेती हैं। ऊपर से यहां की पुरातात्विक हवेलियां और पर्यटन स्थल अपने आप में बहुत कुछ कहते हैं। मगर विडम्बना देखिए, यहां कई ऐसे स्थान हैं जहां बीच चौराहों और मुख्य स्थलों पर मांस की दुकाने जिनमें खुलेआम कटे हुए बकरे और खाल उतारे सिर कटे मुर्गे यहां-वहां लटके दिखाई देते हैं। मगर जयपुर रेलवे स्टेशन, सिंधी कैंप बस स्टैण्ड, पोलोविक्ट्री, चांदपोल गेट, मोतीडूंगरी रोड आदि ऐसे स्थान हैं जहां बाहर से आने वाले यात्रियों को बस और ट्रेन से उतरते ही ये सब देखने को मिलता है और हालत ये होती है कि शाम होते-होते तो इनके पास से गुजरते समय नाक पर रुमाल रखना पड़ता है। धर्म परायण लोगों को तो ये सब देखते ही घिन्न सी होने लगती है। नाक-भौं सिकोड़ते हुए उनके मुंह से अनायास ही निकल जाता है कि ऐसी है धार्मिक नगर छोटी काशी। ऐसा है गुलाबी नगर। सरकार को चाहिए कि जयपुर का जैसा नाम है और जैसा काम होने वाला है यानि स्मार्ट सिटी बनने जा रहा है तो इसकी गरिमा को ध्यान में रखते हुए मांस-मच्छियों की दुकानों के बारे में भी कुछ नियम-कायदे बनाए, जिससे यहां के निवासियों के साथ ही बाहर से आने वाले यात्रियों को उड़ती सड़ांध और लटकते मांस के लोथड़ों के दृश्यों से निजात मिल सके।
shivdayalmishra@gmail.com

Advertisements
Advertisements
Advertisements

One thought on “स्मार्ट सिटी जयपुर को सड़ांध से भी मुक्त करो!

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Next Post

परिवार के 13 में से 12 सदस्य हुए कोरोना पाॅजिटिव, दादा-पोता की बिगड़ी तबीयत, कोविड अस्पताल में रात बारह बजे जिला कलक्टर पहुंचे तो लगा मुसीबत में साथ खड़ा है प्रशासन..

Wed Dec 16 , 2020
। बीकानेर@जागरूक जनता । ‘परिवार के 13 में से 12 सदस्य कोरोना पाॅजिटिव पाए गए। पिचयासी साल के पिता और बेटे का आॅक्सीजन लेवल कम हो रहा था। मानो, हमारे परिवार पर कोई वज्रपात हो गया। संकट के इस दौर में कोविड अस्पताल में मिली सेवाएं हमारे जीवन की रक्षा में वरदान साबित हुईं। ऐसी परिस्थितियों में रात बारह बजे खुद जिला कलक्टर हमें संभालने आए तो लगा मुसीबत में प्रशासन भी हमारे साथ खड़ा है।’  यह कहना है गंगाशहर में रहने वाले उद्यमी मनोज सेठिया का। सेठिया ने बताया कि एक साथ बारह सदस्य कोरोना पाॅजिटिव आ गए तो ऐसा लगा कि जीवन रुक सा गया। पिता और बेटे के फैंफड़ों का संक्रमण बढ़ गया था और आॅक्सीजन का स्तर लगातार घट रहा था। डाॅक्टरों की सलाह पर उन्हें कोविड अस्पताल में भर्ती करवाया। यह दौर उनके लिए संकट […]

Jagruk Breaking