कॉलेज शिक्षा में अब राजस्थानी साहित्य के व्याख्याता के 10-15 पदों पर होगी भर्ती, मंत्री भाटी ने किया वादा, काॅलेज आयुक्त को दिए निर्देश….

Advertisements
Advertisements

Advertisements

बीकानेर@जागरूक जनता । कहते हैं, राजस्थानी अगर दृढ़ निश्चय से जिस काम को करने की ठान ले, वो तब तक नही हारता जब तक वो उस मंजिल को नही पा नही लेता, कुछ यही सटीक शब्द राजस्थानी मोट्यार परिषद पर चरितार्थ हो रहे हैं, जिसमें परिषद द्वारा काॅलेज व्याख्याता भर्ती 2020 में राजस्थानी साहित्य विषय के नये पदों को सृजित करने की मांग को लेकर तीन दिन के लगातार अथक प्रयास की मेहनत आज रंग लाई।

शनिवार को उच्च शिक्षा मन्त्री भंवर सिंह भाटी ने मोट्यार परिषद के बीकानेर संभाग महामंत्री सरजीत सिंह सहित प्रतिनिधि मंडल सदस्यों के सामने विभाग के अधिकारियों को मौके पर फोन स्पीकर पर करके कॉलेज व्याख्याता भर्ती में राजस्थानी साहित्य विषय के कम से कम 10-15 नए पदों पर भर्ती निकालने के आदेश दिए, वंही महाराजा गंगासिंह विश्विद्यालय में राजस्थानी साहित्य विषय का स्वतंत्र विभाग खोलकर जल्द पदों को भरने के सम्बंध में निर्देश दिए। मंत्री भाटी ने राजस्थानी मोट्यार परिषद के प्रतिनिधि मंडल को जरूरत पड़ने पर हरसंभव मदद का भरोसा दिलाया ।

उल्लेखनीय है, विगत 16 दिसंबर को राजस्थानी मोट्यार परिषद के संभाग महामंत्री सरजीत सिंह के नेतृत्व में प्रतिनिधि मंडल ने राजस्थानी भाषा को दुसरी राजभाषा बनाने, काॅलेज व्याख्याता भर्ती 2020 में राजस्थानी साहित्य विषय के पद इसी विज्ञप्ति में शामिल करने, राजस्थानी साहित्य के नये पदों को सृजित करने सहित मांगों को लेकर सर्किट हाउस में भंवर सिंह भाटी उच्च शिक्षा मन्त्री से मुलाकात कर ज्ञापन दिया था।जिस पर मंत्री भाटी ने जल्द ही इन मांगों को पूरा करने का आश्वासन दिया था। शनिवार रात को इन माँगो को पूरा करने की दिशा में कदम बढ़ाते हुए भाटी ने अधिकारियों को निर्देश दिये।

इन मांगों को लेकर भाग दौड़ करने वाले प्रतिनिधि मंडल में बीकानेर संभाग महामंत्री सरजीत सिंह, बीकानेर परिषद उपाध्यक्ष मुकेश रामावत, महासचिव प्रशान्त जैन, सलाहकार भरतदान चारण व रामावतार उपाध्याय, कोषाध्यक्ष राजेश चौधरी, शंकर दान चारण, राजुनाथ, सुरेन्द्र सहित मोट्यार परिषद के सदस्यों की मजबूत भूमिका रही।

Advertisements
Advertisements

Next Post

व्यंग्य ही क्यों ' पर ऑनलाइन राष्ट्रीय -विमर्श, देश के जाने माने व्यंग्यकारो ने की चर्चा

Sun Dec 20 , 2020
। बीकानेर@जागरूक जनता । सतत साहित्यिक संस्था द्वारा सतत ऑनलाइन राष्ट्रीय व्यंग्य-विमर्श का आयोजन किया गया। ‘व्यंग्य ही क्यों ?’ विषय पर देश के जाने-माने व्यंग्यकारों ने अपनी बात रखी। इस चर्चा को आरम्भ करते हुए वरिष्ठ आलोचक और संचालक डॉ रमेश तिवारी ने व्यंग्य की भूमिका और इस विषय की महत्ता पर प्रकाश डालते हुए कहा कि आज जिस अनुपात में व्यंग्य लिखे जा रहे हैं वह हमें हर्षित तो करता है किन्तु जब हम गुणवत्ता की दृष्टि से विचार करते हैं तो हमें उत्साहजनक परिणाम नहीं मिलते हैं । चर्चा की शुरुआत में युवा व्यंग्यकार अनूप मणि त्रिपाठी ने कहा कि व्यंग्य बाज की तरह होता है जो विसंगतियों पर नजर रखता है और उन्हें चुन-चुन कर पाठक के समक्ष रखता है, उन्हें आगाह करता है। उन्होंने कहा कि व्यंग्य वह टूल है जिससे हम उस चीज को […]

Other Stories

Jagruk Breaking