डॅूंगर महाविद्यालय की राष्ट्रीय सेवा योजना की इकाईयों के संयुक्त तत्वाधान में मनाया राष्ट्रीय युवा दिवस

Advertisements
Advertisements

Advertisements

बीकानेर@जागरूक जनता। राजकीय डॅूंगर महाविद्यालय,बीकानेर की राष्ट्रीय सेवा योजना की इकाईयों के संयुक्त तत्वाधान में ‘‘राष्ट्रीय युवा दिवस’’ 12 जनवरी मंगलवार को मनाया गया। महाविद्यालय के प्राचार्य डाॅ. जी.पी सिंह ने विवेकानन्द जी के चित्र पर माल्यापर्ण कर कार्यक्रम का शुभारम्भ किया।
इस अवसर पर राष्ट्रीय सेवा योजना प्रभारी डाॅ.सत्यनारायण जाटोलिया, जिला समन्वयक डाॅ.नरेन्द्र कुमार, उपाचार्य डाॅ.शालिनी मूलचन्दानी, डाॅ. ए.के. यादव एवम् डाॅ. सध्या जैन ने भी माल्यापर्ण किया। उपाचार्य डाॅ. शालिनी मूलचन्दानी ने युवाओं को विवेकानन्द जी के आर्देशों को अपनाने की बात कही। डाॅ.नरेन्द्र कुमार ने बताया की मानव मात्र की सेवा, सत्यवचन, अपने लक्ष्य की प्राप्ति तक न रूकने की बात कहीं एवम् स्वयंसेवकों से विवेकानन्द जी को अपना आदर्श मानकर और प्रेरणा स्रोत बनाकर जीवन में आगे बढने की सीख दी। राष्ट्रीय सेवा योजना के समन्वयक डॅा.सत्यनारायण जाटोलिया ने इस अवसर पर सम्बोधित करते हुए स्वामी विवेकानन्द जी की जीवनी पर प्रकाश डाला तथा बताया कि विद्यार्थी जीवन में सकारात्मक सोच के साथ लक्ष्य की पूर्ति के लिए मेहनत करें एवं हमेशा एक-दूसरे के प्रति प्रेम भावना रखते हुए अपने आप की एक सुसंस्कारित युवा के रूप में पहचान समाज में बनाये तथा एक राष्ट्र के सुयोग्य नागरिक के रूप में उभरे तथा राष्ट्रहित में हमेशा आगे रहकर कार्य करें। श्री ओम प्रकाश ने स्वयंसेवकों को स्वामी जी के विभिन्न प्रसंगों के माध्यम से उनके जीवन का ज्ञान कराया गया।

इसी कडी में मीडिया प्रभारी डाॅ. राजेन्द्र पुरोहित ने स्वयंसेवकों को एक समक्ष युवा के रूप में आगे आकर स्वच्छ भारत अभियान में रोल माॅडल के रूप में उभरने का आह्वान किया तथा इस अभियान में अपनी बढ चढकर भागीदारी निभाने की अपील की।  इस अवसर पर स्वयंसेवकों ने भी अपने विचार व्यक्त किये जिसमें ललित बारूपाल ने छात्रों को स्वदेशी वस्तुओं के अधिकाधिक उपयोग की बात कही। कार्यक्रम में डाॅ. पुष्पेन्द्र सिंह शेखावत, डाॅ. देवेश खण्डेलवाल, डाॅ. सुरेन्द्रपाल मेघ, डाॅ.अरविन्द्र शर्मा, डाॅ. उज्जवल गोस्वामी, डाॅ. महेन्द्र थोरी, डाॅ. सुनिता गोयल, डाॅ. साधना भण्डारी, डाॅ. श्वेता नेहरा, डाॅ. मुक्ता ओझा, डाॅ. एम.डी. शर्मा एवम् स्वयम् सेवक मोहन बारूपाल, किशन, विजेन्द्र सिंह, शेरबाहदुर सिंह आदि उपस्थित रहें।

Advertisements
Advertisements

Next Post

आंदोलनकारियों की भी तो कुछ जिम्मेदारी तय हो!

Wed Jan 13 , 2021
शिव दयाल मिश्राहमारे देश का संविधान नागरिकों को अपनी बात कहने का पूरा अधिकार देता है। उसी संविधान में प्रदत्त अधिकारों के तहत देश में बड़े-बड़े आंदोलन हुए हैं। ऐसे आंदोलन लंबे समय तक भी चले हैं इनमें से कई आंदोलन शांतिपूर्वक चले और अपनी मांगें भी मनवाई। मगर कुछ ऐसे आंदोलन भी हुए जिनमें कुछ भी हाथ नहीं लगा, बल्कि कई लोगों की जान भी चली गई। कुछ विरोध प्रदर्शन होते हैं वे एक-दो दिन के लिए किए जाते हैं जिनका उद्देश्य सिर्फ सरकार तक अपनी बात पहुंचाने का होता है और सरकार उनकी बात पर विचार भी करती है। अगर उनकी मांगें वाकर्ई उचित होती हैं तो उन पर सरकार कार्यवाही भी करती है। मगर कुछ आंदोलन ऐसे हुए हैं जिन्होंने हिंसा का रूप ले लिया। जिनमें दोनों तरफ यानि आंदोलनकारी और सरकारी लोगों की जानें चली गई। […]

Other Stories

Jagruk Breaking