कई वर्षों से गांव-गांव जाकर ग्रामीणों एवं युवाओं को सामाजिक कार्यों और बेटियों को पढ़ाने का संदेश देकर जागरूक कर रहे हैं लिंगानुपात को बढ़ावा मिलना हैं बड़ी उपलब्धि आज समाजसेवा का मतलब, नेतागिरी करना हो गया है। आम इंसान सोचता है कि वो तो समाजसेवा कर ही नहीं सकता। समाजसेवा करने के लिए समय और पैसा चाहिए और दोनों चीज उनके पास नहीं होती। क्योंकि आम जनता का पूरा समय पैसा कमाने में ही खर्च हो जाता है | ऐसे में ‘समाजसेवा’ शब्द एक फैशन की तरह इस्तेमाल होने लगा है। जो थोड़ी-बहुत समाजसेवा होती है वो भी सिर्फ […]

जागरूक जनता के संपादक शिवदयाल मिश्रा की शिक्षिका स्नेहलता भारद्वाज से एक चर्चा जयपुर। कड़ी मेहनत और लगन के साथ-साथ अगर परिवार का साथ मिल जाए तो जीवन में सफलता दूर नहीं होती। एक बहुत ही साधारण परिवार में जन्मी डॉ. स्नेहलता भारद्वाज का जीवन इसी बात को सच करता है। डॉ. स्नेहलता से मुलाकात में उन्होंने अपने जीवन के बारे में जानकारी दी। डॉ. स्नेहलता भारद्वाज पुराना रामगढ़ मोड़ स्थित सरस्वती विद्यापीठ सीनीयर सैकण्ड्री स्कूल की ङ्क्षप्रसिपल हैं। एम.ए. बीएड., नैचरोपैथी एवं आयुर्वेद से डॉक्टरी की उपाधि प्राप्त डॉ. स्नेहलता का प्रारंभिक जीवन बहुत ही कष्ट पूर्ण रहा। सात […]

Breaking News

error

Jagruk Janta